Raghav Writing Solutions Competition Raghav Writing Solutions : पढ़िए……राष्ट्रीय साहित्य प्रतियोगिता 2022 की प्रतिभागी “विनिता जैन” द्वारा लिखित कहानी “सास…..!”

Raghav Writing Solutions : पढ़िए……राष्ट्रीय साहित्य प्रतियोगिता 2022 की प्रतिभागी “विनिता जैन” द्वारा लिखित कहानी “सास…..!”


Raghav Writing Solutions : पढ़िए…… राष्ट्रीय साहित्य प्रतियोगिता 2022 की प्रतिभागी "विनिता जैन" द्वारा लिखित कहानी "सास…..!"

कहानी शीर्षकसास

Raghav Writing Solutions

मै आज सास बन गई
किसी की बेटी को बेटी
कह कह कर लाई थी
मै उसे अब बहू कहने लग गई हूं….
मेरी आत्मा अब हुक्म हुक्म कर कर के तुष्ट हो रही है…
क्योंकि अब किसी की बेटी निरंतर मेरे घर में काम से जूझ रही है….
मेरे अंदर इस दानव ने कब जन्म लिया मुझे पता नहीं..
किंतु मैं अब हर समय रूष्ट रहती हूं..

Raghav Writing Solutions : Eminent Developer


बहू के जैसा रूप सौष्ठव न रहा लेकिन उस से हर पल बराबरी करती हूं….
जो प्यार मेरी सास ने मुझे न दिया वो मैं भी नही दे पाती हूं
मै आई थी… अल्हड़ उम्र.. लिए जैसा सब ने चाहा ढल गई थी …
और ऐसा सुना सुना कर पूरे घर में कोहराम मचा डालती हूं…
ये भूल गई हूं की अपनी सास की इन्ही बातों से मेरा दिल हर पल रोता था……
जानती थी… प्यार से ही प्यार पैदा होता है….
नफरतों… से नफरत..

Read More : पढ़िए…… राष्ट्रीय साहित्य प्रतियोगिता 2022 की प्रतिभागी “आरती खंडेलवाल” द्वारा लिखित कहानी “सहयोग – एक निवेश…..!”
दिन भर बहू के कामों में नुक्स निकालना जैसे बन गई हो बड़ी सी हसरत…
मै ये क्यूं भूल गई की हमारे समय हमें आराम ही आराम था.. चैन से रात और दोपहर में सोते थे ….
बाहरी कोई काम ही न था…
पर आज की बेटी….. बेटी नहीं बेटा है….
भले तुम्हारा खुद का सिक्का हो खोटा…
पर उसके जीवन में भी वही सिक्का खोटा है…
सब जानते है
जब तक वो बेटी… घर बाहर निभा पाएगी……………. तब तक ही… निभाएगी..


पहले वो घर में बेईज्जत थी अब वो अपनी इज्जत के लिए घर से बाहर निकल जायेगी…
पहले के समय में घर की गाड़ी एक पहिए से चलती थी… पत्नी शान से बेफिक्री के झूले में झूलती थी …. और पति के बालो में बिन तनाव की सफेदी खिलती थी….
अब पति के साथ पत्नी को
गर है सुख चैन से रहना
चाहिए सोने को घर
तो……
उन दोनो को छोड़ना पढ़ता है चैन की नींद सोना….
सच कहती हूं…

मां का त्याग
मां का त्याग ……बोल बोल हल्ला नही मचाऊंगी…

बेटे के रूप में जो एक और बेटी आई है उसका भी मान बढ़ाऊंगी… Raghav Writing Solutions

विनिता जैन

Disclaimer – उपरोक्त रचना लेखिका “विनिता जैन” द्वारा लिखी गई है, जिसके लिए वह पूर्ण रूप से जिम्मेदार हैं। हमें आशा है कि आपको यह रचना पसंद आएगी। कृपया हमें कमेंट करके अवश्य बताएं कि आपको यह रचना कैसी लगी….!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *